Ads Area

दुनिया का सबसे बड़ा फ्लोटिंग सोलर फार्म सिंगापुर में बनाया जा रहा है जाने इसके बारे में सब कुछ


दुनिया का सबसे बड़ा फ्लोटिंग सोलर फार्म यानी तैरता हुआ सोलर फार्म सिंगापुर में बनाया जा रहा है. इस ऊर्जा संयंत्र को सिंगापुर में जलाशय पर स्थापित करने का निर्णय लिया गया है.

सिंगापुर में फ्लोटिंग सोलर फार्म क्यों बनाया जा रहा है?

दुनिया के सबसे छोटे देशों में से एक सिंगापुर है. लेकिन यह एशिया में सबसे बड़ी प्रति व्यक्ति कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जकों में भी है. 

जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए, देश दुनिया के सबसे बड़े अस्थायी सौर फार्मों  में से एक का निर्माण कर रहा है.

इसने इन ऊर्जा संयंत्रों को अपने तटों और जलाशयों पर स्थापित करने का निर्णय  लिया है.

इस प्रोजेक्ट को Sembcorp Industries द्वारा बनाया जा रहा है.

ये सौर फार्म कुछ हद तक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में कटौती करेंगे.

जानें भारत का पहला इग्लू कैफे (Igloo Cafe) कहां बनाया गया है?

आइये अब फ्लोटिंग सोलर फार्म के बारे में जानते हैं 

जैसा की उपर बताया गया है कि सिंगापुर एशिया के सबसे बड़े कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जकों में से एक है. इसीलिए इसने ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने के लिए फोटोवोल्टिक फ्लोटिंग फार्म विकसित करने की योजना के तहत जोहोर स्ट्रेट (Johor Strait) में सिंगापुर के तट में हजारों सौर पैनल लगाने का निर्णय लिया है.

लगभग 13,000 पैनलों को सीबेड में लगाया जा रहा है और ये लगभग 5 मेगावाट बिजली का उत्पादन कर सकते हैं. यह औसतन एक वर्ष में 1,400 अपार्टमेंट को बिजली दे सकते हैं.

इसलिए सिंगापुर ने अधिक नवीकरणीय ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए आवश्यक सौर पैनलों को रखने के लिए पानी की ओर रुख किया है. योजनाओं में दक्षिण पूर्व एशिया में सबसे बड़ा सौर फार्म है, जो कि 122,000 से अधिक सौर पैनलों के साथ 45 फुटबॉल पिचों के आकार को कवर करता है.

यह प्रोजेक्ट सिंगापुर जल प्रबंधन संयंत्रों की ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त एनर्जी उत्पन्न करेगा. इससे सड़कों से 7000 कारों को हटाने के बराबर कार्बन उत्सर्जन को कम करने की भी उम्मीद है.

इन सौर पैनलों को चीन से आयात किया जा रहा है और कंक्रीट के ब्लॉक के साथ जलाशयों के फर्श पर लगाया जा रहा है.

सिंगापुर में नवीकरणीय ऊर्जा के बारे में अध्ययन करते हैं 

जैसा की हम जानते हैं कि सिंगापुर के पास पनबिजली के लिए कोई नदियाँ नहीं हैं इसलिए नवीकरणीय ऊर्जा देश के लिए एक चुनौती है. पवन भी टर्बाइनों को घुमा देने के लिए मजबूत नहीं है. 

इसलिए, तैरते हुए सौर फार्मों की स्थापना के साथ, सिंगापुर में नवीकरणीय ऊर्जा को बढ़ावा देने का प्रयास किया जा रहा है और इस देश ने सौर ऊर्जा की ओर रुख किया है. चूंकि, इसके पास बहुत कम भूमि स्थान है, लॉस एंजिल्स के आधे आकार के बराबर, देश ने अपने तटों और जलाशयों में ऊर्जा संयंत्र स्थापित करने का फैसला किया है.

जब स्थिरता की बात आती है तो सिंगापुर कुछ हद तक परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है. अपने अद्वितीय शहरी बायोफिलिया के लिए प्रसिद्ध शहर होने के बावजूद, हरित ऊर्जा या ग्रीन एनर्जी के लिए अभी भी एक लंबा रास्ता तय करना है.
आखिर सिंगापूर देश के लिए क्या खतरा है?

जलवायु परिवर्तन के कारण समुद्र के बढ़ते जल स्तर से सिंगापुर को खतरा है. इसलिए, देश को उत्सर्जन में कटौती की आवश्यकता है.

सिंगापुर की सरकार ने इसके कारण कई "ग्रीन प्लान" का अनावरण किया है, जिसमें इलेक्ट्रिक कारों के उपयोग को प्रोत्साहित करने के लिए अधिक चार्जिंग पॉइंट बनाने, लैंडफिल पर भेजे गए कचरे की मात्रा को कम करने और अधिक पेड़ लगाने जैसे कदम उठाए जा रहे हैं. 

देश ने 2025 तक देश की बिजली जरूरतों का दो प्रतिशत और फिर 2030 तक तीन प्रतिशत तक अपने सौर ऊर्जा उपयोग को बढ़ाने का लक्ष्य रखा है. यह प्रति वर्ष लगभग 3,50,000 घरों के लिए पर्याप्त होगा.

तो अब आप जान गए होंगे कि दुनिया का सबसे बड़ा फ्लोटिंग सोलर फार्म सिंगापुर में बनाया जा रहा है ताकि जलवायु परिवर्तन से निपटा जा सके. 

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area